मेरा लंड खायेगी?

मेरा नाम जतिन है, मैं 40 साल का हूँ। मैं रोजाना व्यायाम करता हूं और मेरा शरीर बहुत मजबूत है। मेरा लंड 7.5 इंच लंबा और 3 इंच मोटा है। मैं हमेशा अपने लंड की मालिश करता हूँ।

चुदाई कहानी डॉट कॉम पर आपका स्वागत है. मैं अक्सर यहाँ चुदाई और मस्त सेक्स कहानियाँ पढ़ने आता हूँ. आज एक चुदाई कहानी आपके सामने पेश कर रहा हूँ..

मेरी अपनी महिलाओं की कपड़े की दुकान है। एक बार मैं अपने सप्लायर से मिलने जा रहा था जो मुझे ब्रा और पैंटी देता है।और मैंने एक महिला को देखा, जो स्लीवलेस ब्लाउज के साथ साड़ी पहने हुए थी। वह 15 साल की उम्र की लड़की के साथ सड़क पर खड़ी थी। लड़की को खून बह रहा था और वे बहुत घबराए हुए थे।

मैंने उन्हें रोका और उनके बारे में जानकारी दी, उन्होंने कहा कि एक कार उसे टक्कर मारकर भाग गई। मैंने अपने सप्लायर को फोन किया कि मुझे देर हो जाएगी और वह इंतजार कर सकता है मैं डॉक्टर के पास दोनों को ले गया और कहा कि भर्ती होने की जरूरत है। मैंने महिला से पूछा कि क्या वह अपने घर से किसी को बुला सकती है । उसने कहा कि उसका पति 4 दिनों के लिए शहर से बाहर है।

फिर मैंने कहा चिंता मत करो मैं व्यवस्था करूंगा। लेडी का नाम अंजू था और उसकी उम्र 37 साल थी। अपनी बेटी को अस्पताल में भर्ती करने के बाद मैंने अंजू को वहीं रहने के लिए कहा और कुछ भेजूंगा । मैं 2 घंटे बाद वापस आया। इस बीच मैंने उन्हें कुछ खाना और पानी भेजा। मैंने डॉक्टर से बात की, उन्होंने कहा कि वे कल जा सकते हैं। अगले दिन मैं उन्हें लेकर उनके घर पर चला गया।

घर पर उन्हें छोड़ने के बाद मैं वापस आ रहा था. लेकिन अंजू ने मुझे कुछ देर रुकने के लिए कहा। उसने आकर मुझे कुछ पैसे दिए मैंने लेने से इनकार कर दिया और कहा कि मत करो और चला गया। अंजू के पास मेरा नंबर था और उसने शाम को मुझे फोन किया मैं अपने लेडीज ग्राहकों के साथ व्यस्त था, मैंने अंजू का फ़ोन उठाया। उसने धन्यवाद दिया। मैंने कहा यह मेरा कर्तव्य था।

अब हम दोनों नियमित रूप से बात करने लगे।

मैंने उससे कहा कि अगर उसे कुछ चाहिए तो वह मेरे पास आ सकती है । एक बार वह आई। उसने छोटी कुर्ती और टाइट लेगिंग पहन रखी थी। मैं कुर्ती में उसकी फुद्दी और उसके बड़े बूब्स देख सकता था। वो एक सेक्सी महिला लग रही थी। उसने कुछ नाईट ड्रेस माँगी। मैं उसे अलग काउंटर पर ले गया मैंने उससे पूछा कि कौन सी नाईट ड्रेस है।

वो मुस्कुराई और थोड़ा सेक्सी कहा मैंने उसे कुछ दिखाए और अंजू ने 2 ले लिए। मैंने रात को फोन किया और पूछा कि फिट हुई। उसने कहा हां। अब इस तरह दोनो बात करते करते काफी नजदीक हो गए। अंजू भी खुल गयी थी। उसके पति जब नही होते दिन में तब मैं घर भी गया, मिलने और एक बार मैंने कहा कि क्या हम कहीं ड्राइव पर चलें। अंजू थोड़ा हिचकिचाई पर बोली कि 2 दिन के बाद उसके पति बाहर जाने वाले हैं। फिर 2 दिन बाद अंजू को मैंने घर से पिक किया, अंजू ने सलवार पहनी थी, उसकी कुर्ती से क्लीवेज बहोत हॉट लग रहा था।

हम निकल गए और काफी दूर जाकर एक जगह थी, वहां कोई नही था । झरना था और बजट सुंदर जगह थी। वहां जाकर बैठे अंजू को वो जगह पसंद आई। अंजू का हाथ पकड़ लिया और उसने मना भी नही किया। अब हम थोड़ा चिपक के बैठे, अंजू ने मेरे कंधे ओर सर रखा, फिर मैं पैर फैलाकर बैठा और अंजू को अपनी जांघो पर लिटा लिया। अंजू की चूचियाँ एकदम तनी थी, मै उसके बालों को सहलाने लगा, अब उसको अच्छा लगने लगा।

धीरे से एक हाथ उसकी गर्दन पर फिराया और फिर चूची की धरी में, वो थोड़ा मुस्कुराई, मैं अब खुल गया, उसकी हाथों को अपने हाथ से जकड़ लिया, मेरा लंड खड़ा हिने से उसके चुभने लगा। अब वो उठी, मैंने उसको कस के पकड़ लिया, हम दोनों एक दूसरे को चूमने लगे, मैन उसकी कुर्ते को वुर उठाकर पीठ पर हाथ फिराने लगा। अंजू बोली कि जतिन यहां नही। फिर पास में ही एक गेस्ट हाउस था, वह कई जोड़े केवल चुदाई के किते जाते थे।

हम वहां गए, रूम लिया और मैंने फटाफट अंजू को नंगी कर दिया और खुद भी हो गया। अंजू का गोरा नंगा जिस्म को चिपका लिया, अंजू को लंड दे दिया जिसको वो सहलाने लगी और बोली कि ये बहोत हॉट और मोटा है। फिर मैंने उसको घुटनो पर बिठाया लंड को उसके होठों ओर फिराने के बाद अंदर डाल दिया। अंजू चूसने लगी, वो बहोत अच्छा चूस रही थी, अंजू का मंगलसूत्र मेरे लंड से टकरा रहा था।

अब अंजू को लिटाकर उसकी चुत में जीभ फिराने लगा, अंजू गरम होने लगी, कमर उठाने लगी। मैं उसकी गदरायी हुई चूत को जीभ से लगातार चाट रहा था और वो झड़ गयी। झड़ने के बाद अंजू की चूत गीली हो चुकी थी। मैं ने अंजू के दोनों जांघों को फैलाया, लंड को चूत के मुह पर रखकर जोर से रगड़ने लगा, अंजू में मुह से सिसकी निकलने लगी, अन अंजू मेरे मोटे लंड के किये तैयार थी…

मैंने एक धक्का मार और लंड अंजू की चूत में डाल दिया, लंड एकदम अंदर तक घुस गया था अंजू को मैम ऊपर से चिपका लिया, वो आआह भर रही थी, अंजू के गालों पर हाथ फिराया, अंजू एक गर्म औरत थी, अंजू से पूछा कि कैसे लग रहा है, वो मुस्कुराकर बोली कि बहोत मजा आ रहा है, चोदो। फिर मैं धक्के मारने लगा, अंजू भी अब साथ देने लगी, अंजू की चूचियाँ दबाते हुए चोद रहा था, 30 मिनट तक चोदा उसको और वो 3 बार झड़ी।

अब अंजू के चूत से लंड निकाल लिया, थोड़ा प्यार किया और फिर से चोदने लगा। जब निकलमे वाला था तब अंजू को जोर जोर से धक्के मॉर्ने लगा अंजू ने मुझे कस के पकड़ रकहा था और मैंने लंड का सारा माल चूत में ही डाल दिया।

दोनो चिपक के लेटे रहे।

मैंने अंजू की मालिश की फिर घर आ गए।

अंजू उस शहर में 3 साल रही और 3 साल मैंने उसको चोदा।

देवर ने भाभी के साथ किया जबरदस्ती